वक्त

wp2511097

वक्त ज़िन्दगी की लगाम है,
इसके पहिये को सलाम है|
जो वक्त एक बार छूट गया,
समझो वो तुमसे रूठ गया|
वक्त को हमारे साथ नहीं,
हमें वक्त के साथ चलना चाहिए|
जो वक्त एक बार गया गुज़र,
वो वापस नहीं आता नज़र|
इसकी गति बहुत तेज़ है,
यह छिपा एक भेष है|
यह एक ऐसी चिड़िया है,
जिसके उड़ने के लिए आकाश कम है|
यह एक ऐसी दौड़ है,
जिसके साथ चलने की लगी सबको होड़ है|
यह एक ऐसा समा है,
जिसने जिया वही भला|
तो देर किस बात की – आओ प्रण ले,
वक्त के आगोश में शरण ले|

6 comments

  1. Aisha · November 12, 2018

    Wow!! Good work Pelika, keep it up! You’ve gone to many metaphors this time. Truly said.. Time is money 😉

    Liked by 1 person

  2. वक्त का सम्मान बहुत जरूरी है, रेत की तरह फिसलता है। बहुत अच्छी कविता।

    Liked by 1 person

  3. my640 · September 25

    Beautiful lines

    Liked by 1 person

Leave a Reply to chaitanyabharatnews Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s